DilseShayari.com

Shayari directy from Hearts

Hindi Shayari

॥ होंठ जैसे गुलाब के फूल हो ॥

होंठ जैसे गुलाब के फूल हो
बाल जैसे काली काली घटा

आँख जैसे गहरा सागर
पलकों पर जैसे हर मौसम फ़िदा

हर एक मुस्कान पर मरे कितने ही
उसकी है हर बात निराली और जुदा

नज़र उठे तो घटा छा जाये
नज़र गिरे तो हो जाये बारिश

और क्या कहू उसकी शान में आप सब से
बस छोटी सी ये एक मिसाल है उसके हसन की।

Dev Kumar

इश्क़ को यूं रुसवा तो ना कर

मेरे महबूब मेरे इश्क़ को यूं रुसवा तो ना कर,
उम्मीद दिल में जगा के यूं वादे से ना मुकर,
तेरे दीद की चाहत लिए तेरी चौखट पे खड़े हम,
मेरी वफ़ाओं के चर्चे यूं सरेआम तो ना कर..

Bita Kal

मेरा बीता हुआ कल भुलाने आए हो तुम

तुम्हारी तारीफ क्या करूं जो काबिल हो कर आए हो तुम

मेरी और तेरी तकदीर मैं बस एक खुशनुमा है

मैं तेरा हूं तू मेरा है

Kya kasoor tha hamara

क्या कसूर था हमारा
जो हम इस कदर तनहा हो गए
कल जिन्होंने दिल से चाहा था हमें
आज वही बेवफा हो गए
यूँ तो तमन्नायें थी हज़ारों
मगर ज़िन्दगी से ठुकराये गए
हज़ारों हो जाएं चाहने वाले
पर जिसकी दिल में हुकूमत हो
ऐसा कौन मिलेगा
कभी भूले से याद ए हम
तो पलट के देखना
हमें वहीँ पाओगे
जहाँ कल तुमने साथ छोड़ा था
तुम्हारा रोज़ इंतज़ार करते हैं
तुमको बहुत प्यार करते हैं
दिल की आरज़ू है
तुम जहाँ भी रहो
हमसे गिले शिकवे न हों
चलते हैं हम इस दुनिया से
अपना ख्याल रखना
कभी भूले भटके
हमारा नाम ले लेना

Shayari On Rock

बहुत खूबसूरत था…
चुपके से वो मुझसे
कुछ कह जाना तेरा

बहुत खूबसूरत था…
वो दरख्तों में छुपकर
आवाज़ लगाना तेरा

बहुत खूबसूरत था…
मेरी बाँहों में रहकर
कुछ पल बिताना तेरा

बहुत खूबसूरत था…
ग़मों के मौसम में
साथ भीग जाना तेरा

यादों का वो एक घर
ज़िंदगी का लम्बा सफ़र
तेरे साथ ऐ हमसफ़र …
बहुत खूबसूरत था !!!

ख़ामोश सा एक चहरा
जिसकी यादें लिए दिल
जागता है रात भर …
बहुत खूबसूरत था !!!

बहुत खूबसूरत था…
मामूली सी बात पर
वो ख़फ़ा हो जाना तेरा

बहुत ख़ूबसूरत था…
साथ जीने मरने की
वो क़समें उठाना तेरा !!!!!!!!!!

Saccha Pyar

एक हसरत थी सच्चा प्यार पाने की,
मगर चल पड़ी आँधियां जमाने की,
मेरा ग़म तो कोई ना समझ पाया,
क्यूंकि मेरी आदत थी सबको हँसाने की।

Untitled

जिनके दिल पे लगती है चोट..
वो आँखों से नही रोते,
जो अपनो के ना हुए..
किसी के नही होते,
मेरे हालातों ने मुझे ये सिखाया है..
की सपने टूट जाते हैं पर पूरे नही होते|
देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी।

yha hum kha tum

यहाँ हम
कहाँ तुम
हुए तुम कहाँ गुम
डुंढ रहा है दिल मेरा ।
हर तरफ ऩिशा तेरा ।
कब तक छिप पाओगे हमसे
हर तरफ लिखा है पता तेरा ।

Meri kahani kanker

वो बेमतलब का मिलना ..
और तूझसे नज़र चुराना ..
डर लगता है पास तुम्ही हो ..
और तुम से ही छुप जाना
ये खट्टे मित्ठे अहसासो में ..
सिर्फ़ तुम्ही को पाता हूँ ..
अपने कॉपी का पहला पन्ना ..
तेरा नाम कर जाता हूँ ..
यूँ पढ़ते पढ़ते ..मन ..
कब तुम तक आ जाता है ..
जिस्म वही पर रहती है ..
मन तुझमें ही रह जाता है ..
..इन बहती भावों के दरिया में ..
कूछ मैने भी खोया है ..
गहराई ..जिस सीपी पर ..
अपना प्रेम पिरोया है ..

वो बेमतलब का मिलना था पर
तुझेमें ही .. मन खोया है
Laksh

बिछड़ के तुमसे…

बिछड़ के तुमसे …तुम्हे बेवफा तो कह दिया मैंने,…
हकीकत तो ये है …के हर आईने में हम बस खुद ही को गुनहगार पाते है….सिंगस्टार

Page 2 of 512345