DilseShayari.com

Shayari directy from Hearts

shayari

शायद गल्ती थी मेरी

तु आई जिन्दगी में नूर सा मेरे
रेह गई इस दिल में सुरूर सा मेरे
कोइ गल्ती नहीं है तेरी, गलत तो ये निगाहें हैं
कि बस गई तु इस रूह में फितूर सा मेरे

, ,

Page 1 of 11